Neelam Stone Benefits In Hindi : रत्नों मे एक रत्न हे नीलाम

Neelam Stone Benefits In Hindi : सबसे जल्दी फायदा और सबसे जल्दी नुकसान करने वाला रत्न हे नीलम

नीलम रत्न के फायदे और नुकसान : Neelam Stone Benefits In Hindi

नीलम रत्न क्या हे वो रत्न जो आपको  हर प्रकार की सुख सुविधा प्रदान करता हे |  अचानक  से रंक को राजा बना देता हे |  लेकिन फिर आपको आगर नीलम शूट नहीं किया तो राजा से रंक भी बना देता हे | इस आर्टिकल मे आपको नीलम रत्न से होने वाले फायदे और नुकसान दोनों की जानकारी मिल जाती हे |

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now
Please Follow On Instagram instagram

नीलम रत्न, प्राकृतिक नीला मणि, ज्योतिष में बहुत महत्वपूर्ण माना जाता है। यह मनुष्य को आत्म-सम्मान और आत्मविश्वास में वृद्धि करने में सहायक है और साथ ही उसके शारीरिक स्वास्थ्य को भी बनाए रखने में सहायता प्रदान करता है।

नीलम रत्न और आत्म-सम्मान-

नीलम रत्न का प्रयोग किसी भी व्यक्ति के आत्म-सम्मान को बढ़ावा देने में मदद करता है। यह व्यक्ति को आत्मविश्वास में बढ़ोतरी प्रदान करता है, जिससे उसकी व्यक्तिगतिकता में सुधार होती है। यह व्यक्ति को नेतृत्व की भावना दिलाता है, संचार कौशल को बढ़ावा देता है और सार्वजनिक बोलने के कौशल को मजबूती प्रदान करता है। यह मन में आत्म-सम्मान की भावना को जगाता है जिससे व्यक्ति अपनी गलतियों से सिखता है और स्वयं को सुधारने का प्रयास करता है।

Neelam Stone Benefits In Hindi
Neelam Stone Benefits In Hindi
नीलम रत्न और आत्म-ज्ञान-

नीलम रत्न पहनने से व्यक्ति की अंतर्दृष्टि और आत्म-ज्ञान में वृद्धि होती है। यह मनुष्य को अपनी आत्मा के साथ जुड़ने की क्षमता प्रदान करता है और उसकी चेतना को जागृत करता है। यह व्यक्ति को अपने आत्मा के गहरे रहस्यों को समझने में मदद करता है और उसे संसार के अन्य व्यक्तियों के साथ अध्यात्मिक संवाद में भाग लेने में आत्म-समर्पण प्रदान करता है।

नीलम रत्न और शारीरिक स्वास्थ्य-

नीलम रत्न का प्रयोग शारीरिक स्वास्थ्य को बनाए रखने में भी सहायक है। यह रक्तचाप को नियंत्रित करता है, मस्तिष्क की क्षमता को बढ़ाता है और शारीरिक ऊर्जा को बनाए रखने में मदद करता है। यह व्यक्ति को विवादों और तनाव से दूर रखने में सहायता प्रदान करता है और उसकी शारीरिक शक्ति को वृद्धि करता है।

नीलम रत्न का प्रयोग रिश्तों में विश्वास को बढ़ावा देने के लिए-

नीलम रत्न पहनने से व्यक्ति के रिश्तों में विश्वास की भावना बढ़ती है। यह प्यार और वफादारी की भावना को मजबूती प्रदान करता है और व्यक्ति को अपने परिवार और मित्रों के साथ सद्भाव से रहने में सहायता प्रदान करता है।

नीलम रत्न का प्रयोग व्यक्ति को अपनी आत्मा के साथ संवाद में ले जाता है। यह उसे धार्मिकता और दयालुता के मार्ग पर चलने के लिए आध्यात्मिक रूप से जागृत करता है। यह उसे आत्मा की ऊर्जा का अनुभव करने में मदद करता है और उसे अपने आत्मा के साथ एकता महसूस कराता है।

अगर आप अपनी आत्मा के साथ जुड़ना और आत्म-सम्मान में वृद्धि करना चाहते हैं, तो नीलम रत्न का प्रयोग करें। यह न केवल आपके आत्म-सम्मान को बढ़ावा देगा, बल्कि आपकी आत्मा को भी आत्ज्ञान और आत्मा संवाद में ले जाएगा।

 

नीलम रत्न से होने वाले नुकसान: संपूर्ण जानकारी

1. नीलम  रत्न और इसके प्रभाव-

नीलम रत्न, जिसे हम अक्सर अच्छे भविष्य और धन की प्रतीक मानते हैं, आदमी के जीवन में अत्यधिक महत्वपूर्ण हो सकता है। हालांकि, इस प्रेरक रत्न के पहनने से जुड़ी जिम्मेदारियों को न भूलें।

2. नीलम रत्न के अनुकूलता और प्रतिस्थापना-

नीलम रत्न को सही तरीके से अनुकूलित करना गहरे ज्योतिषीय ज्ञान की आवश्यकता है। अनुकूल नहीं होने पर इसके नकारात्मक प्रभावों का सामना करना पड़ सकता है।

3. नीलम रत्न से जुड़ी सामाजिक मान्यता और धार्मिक महत्व-

नीलम रत्न की महत्वपूर्ण धार्मिक और सामाजिक परंपराएँ हैं। इसका सही उपयोग और महत्व जानने से नीलम का सम्मान बना रहना चाहिए।

4. नीलम रत्न का खरीदारी में सावधानी-

नीलम रत्न का खरीदारी करते समय ध्यानपूर्वक जांच करना चाहिए कि यह असली है या नकली। गहरी जांच और सतर्कता से सही नीलम का चयन करना चाहिए।

अगर नीलम रत्न आपकी कुंडली के अनुसार अनुकूल नहीं है, तो इससे जुड़े नुकसान से बचने के लिए सतर्क रहें। यहाँ हम कुछ नुकसानों के बारे में जानेंगे:

1. आँखों पर प्रभाव-

अनुभव से सिखना महत्वपूर्ण है। नीलम रत्न के अनुकूल न होने पर आँखों पर अस्थायी या स्थायी नुकसान हो सकता है।

2. शारीरिक चोट-

नकारात्मक नीलम आपको दुर्घटना में विशेष रूप से प्रभावित कर सकता है, जिससे शारीरिक चोट पहुँच सकती है।

3. विचित्र स्वप्न और मानसिक अवसाद-

नकारात्मक नीलम से आपको अजीब और विचित्र स्वप्न आने शुरू हो सकते हैं, जो आपको मानसिक अवसाद में डाल सकते हैं।

4. आर्थिक समस्याएँ-

नीलम रत्न का नकारात्मक प्रभाव आर्थिक समस्याओं का कारण बन सकता है। इससे बचने के लिए सही रत्न की चयन करें।

5. निष्कलंकता और सतर्कता-

नीलम रत्न को सही तरीके से पहनने से आप अपने भविष्य की सुरक्षा कर सकते हैं। सतर्क रहें, निष्कलंकित जानकारी प्राप्त करें, और सुरक्षित रहें।

Neelam Stone Benefits In Hindi
Neelam Stone Benefits In Hindi

 

नीलम रत्न के चमत्कार-

नीलम रत्न एक बहुत pawerfull रत्न हे | इसका एक रियल लाइफ उदाहरण हे । जो आपसे सेयर करते हे  |                                         एक ब्रोकर था , सुनार की दुकानों पे सोने के बिस्कुटे सप्लाइ करता था  वो रत्नों  को भी सप्लाइ करता था ,  उसने कभी रत्न ट्राइ  नहीं किया  था |

एक बार एक पन्डिट ने बिना जन्मपत्री देखे ,उसे नीलम रत्न पहनने को बोल दिया , और वो भी खूनी नीलम |  खूनी नीलम सबसे खतरनाक रत्न हे |  सबसे पहले असर करता हे ये रत्न 24 घंटे मे ही असर दिखा देता हे , अच्छा हुआ तो अच्छा , बुरा हुआ तो बहुत बुरा |

तो उससे पंडित ने कहा की पहन के देखो , खूनी नीलम की कीमत ज्यादा होती हे , खेर उस सुनार को खूनी नीलम मिलना ,कोई बड़ी बात नहीं हे , ब्रोकर था तो मिल गया उसे बेचने के लिय खूनी नीलम , , अब उसने खूनी नीलम पहन लिया हाथ मे नीले कपड़े मे , क्युकी पन्डिट जी उसे कहा था कि इसकी अंगूठी पहनने से पहले ,आप इसे नीले कपड़े मे बांध के हाथ मे बांध लेना ,

उसके बात उसने उसी रात को एक सपना देखा , की किसी  जेवएलर्स की दुकान पे सोना सप्लाइ करने गया हे , और कोई उसका बेग लेकर बाग गया दुकान से , छोटा स बेग़ था उसी मे ये सोना और रत्न सप्लाइ करता था , तो अब ये उस चोर के पीछे पीछे भाग रहा हे ,,,

अब ये बात उसने सुबह पन्डिट जी को बताई , तो पन्डिट जी ने कहा की ये तो अच्छी बात हे , आपका शनि उतर गया हे , आप पहने रहो इस नीलम लो , खेर उसी रात को वो जेवएलर्स के पास गया किसी काम से , और बाग उसका टेबल पे था , अचानक एक आदमी आया और उसका बाग लेकर भागने लगा , और ये उसके पीछे पीछे भागा , लेकिन वो बेग उसे नहीं मिला , 

उसके बाद से वो बिचारा ,आज तक संभाल नहीं पाया , 5 साल पुरानी बात हे , पता नहीं कितने का सोना और रत्न उसके चले गए , ,,,,, अभी भी वो यही काम करता हे , उसने नीलम बेच दिया था और उसी पेसो से उसने दुबारा काम चालू किया |

तो नीलम की ताकत रंक को राजा और राजा को रंक बना सकती हे , , पहले तो नीलम , और उसपे अगर खूनी नीलम मिल गया , तो बात ही अलग हे इस रत्न की | 

  manik stone benefits in hindi

नीलम रत्न धारण विधि- 

  1. धारण का समय: नीलम रत्न को मध्य रात्रि में धारण करना शुभ माना जाता है। यह समय आपके मानसिक शांति और स्थिरता को बढ़ावा देता है।
  2. चौकोर नीलम का चयन: अगर आपके पास चौकोर नीलम है, तो यह आपके लिए सबसे फायदेमंद हो सकता है। चौकोर नीलम को धारण करने से आपकी आत्म-संयम शक्ति बढ़ सकती है।
  3. अंगूठी का चयन ; नीलम रत्न को आप सोने मे या पंधातु की अंगूठी मे ,शनिवार को  नहा धोकर , अंगूठी को दही,दूध ,सहद , गंगाजल मे धोकर के , शनिदेव के मंत्रों का 108 बार जाप कर के पहन ले |
नीलम रत्न को धारण करते समय ध्यान देने योग्य नियमों में शामिल हैं:
1. मांस और मदिरा 

नीलम रत्न को धारण करने के बाद, आपको मांस और मदिरा का सेवन नहीं करना चाहिए। यह आपकी आत्मा को शुद्धि और पवित्रता में बनाए रखता है।

2. पर्याप्त ध्यान और स्पर्श

नीलम रत्न को साफ रखने के लिए नियमित रूप से ध्यान और स्पर्श देना चाहिए। यह आपके रत्न की चमक और उसकी महत्वपूर्णता को बनाए रखता है।

3. समय समय पर पूजा जाना

नीलम रत्न को समय-समय पर पूजा जाना चाहिए। इससे आपका रत्न आपके जीवन में सुख-शांति और संपत्ति लाएगा।

 

1 thought on “Neelam Stone Benefits In Hindi : सबसे जल्दी फायदा और सबसे जल्दी नुकसान करने वाला रत्न हे नीलम”

Leave a comment