ओपल रत्न किस दिन पहनना चाहिए : खूबसूरती के साथ धन भी देता हे

ओपल रत्न किस दिन पहनना चाहिए : ओपल रत्न के फायदे और नुकसान

ओपल रत्न के फायदे और नुकसान : 

ओपल रत्न किस दिन पहनना चाहिए  ये जानने से पहले ओपल करता क्या हे ये जान लेते हे | ओपल रत्न का जादुई चमक और आकर्षण हमेशा से लोगों को प्रभावित करता आया है। सौंदर्य, प्रेम, और आत्मरहितता का प्रतीक माना जाता है।  इस रत्न के पहनने से शुक्र ग्रह के प्रभाव में वृद्धि होती है, जिससे व्यक्ति की विचारशीलता, संवेदनशीलता, और संचार क्षमता में सुधार होता है। इस लेख में, हम जानेंगे कि ओपल रत्न के पहनने के क्या-क्या लाभ हैं और यह हमारे जीवन को कैसे सजीव बना सकता है।

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now
Please Follow On Instagram instagram
शक्ति और संतुलन का प्रतीक

ओपल रत्न को ज्योतिषिय दृष्टिकोन से देखा जाता है कि यह शरीर के ऊर्जा केंद्रों को संतुलित करता है। यह शक्ति के केंद्रों को संतुलित करने में मदद करता है जिससे व्यक्ति मानसिक, भावनात्मक, और आध्यात्मिक पहलुओं में संतुलन बनाए रख सकता है। इससे व्यक्ति की आत्मा में संतुलन और शांति की भावना रहती है, जो उसके जीवन को संपूर्णता की ओर ले जाती है।

चिकित्सीय लाभ

ओपल रत्न के चिकित्सीय लाभों की चर्चा करते हुए, यह स्पष्ट है कि यह शारीरिक समस्याओं को ठीक करने में मदद कर सकता है। यह प्रतिरक्षा प्रणाली को मजबूत करता है, जिससे व्यक्ति अनेक बीमारियों से बच सकता है। इसके साथ ही, यह हार्मोनल संतुलन को बनाए रखने में मदद करता है, जिससे प्रजनन स्वास्थ्य में भी सुधार होता है।

कल्पना और रचनात्मकता की ऊंचाइयों तक

ओपल रत्न के पहनने से व्यक्ति की कल्पना और रचनात्मकता में वृद्धि होती है। इस रत्न का प्रभाव ऐसा होता है कि व्यक्ति नई विचारधारा विकसित कर सकता है, जो उसे उच्चतम कला में ले जाता है। ओपल पहनने वाले व्यक्ति की सृजनात्मकता का प्रदर्शन करती है और उसकी कल्पना को विस्तार देती है।

ओपल रत्न किस दिन पहनना चाहिए
ओपल रत्न किस दिन पहनना चाहिए

 

ओपल रत्न के फायदे : ओपल रत्न पहनने के ज्योतिषीय लाभ

 ओपल रत्न अपने पहनने वाले को प्रेम, सौंदर्य, रचनात्मकता और विलासिता देता है । इस रत्न को  पहनकर शुक्र के अच्छे प्रभाव को बढ़ा सकते हैं । ऐसा माना जाता है कि यह लोगों को प्यार और सौहार्दपूर्ण रिश्तों को आकर्षित करता है और उनके जीवन को सुखी बनाता है ।

इस रत्न को  पहनने वाले की समझ, सहानुभूति और संचार क्षमता बढ़ जाती है । यह भी कहा जाता है कि यह इसे पहनने वाले से एक पूर्ण, स्वस्थ संबंध बनाने में मदद करता है । यह लंबी साझेदारी और वफादारी बढ़ाता है ।

ओपल की सिफारिश अक्सर कलाकारों, लेखकों और रचनात्मक गतिविधियों में शामिल व्यक्तियों के लिए की जाती है क्योंकि यह किसी व्यक्ति में रचनात्मकता कौशल को बढ़ाता है ।

ओपल पहनकर कोई अपनी रचनात्मकता का प्रदर्शन कर सकता है, अपनी कल्पना को विस्तार दे सकता है और नवीन विचारों को ला सकता है । यह कलात्मक अभिव्यक्ति और प्रभावी ढंग से भावनाओं को व्यक्त करने की क्षमता को प्रोत्साहित करता है । 

ज्योतिषियों का कहना है कि यह रत्न शरीर में ऊर्जा केंद्रों( चक्रों) को संतुलित करता है, जिससे समग्र कल्याण को बढ़ावा मिलता है । ओपल संपूर्णता और संतुलन की भावना देता है क्योंकि यह भावनात्मक, मानसिक और आध्यात्मिक पहलुओं को संयोजित और संतुलित करता है ।

यह पूरे शरीर में सकारात्मक ऊर्जा के प्रवाह को सुविधाजनक बनाता है, साथ ही जीवन शक्ति की भावना का पोषण करता है ।

इस  पत्थर के चिकित्सीय फायदे ओपल पत्थर का ज्योतिषीय महत्व के अलावा कई चिकित्सीय फायदे भी हैं । इस वजह से ज्योतिष भी इस खूबसूरत रत्न की सिफारिश करते है । कहा जाता है की इस रत्न   की शक्ति विभिन्न शारीरिक समस्यायों का उपचार कर सकती है ।

ऐसा माना जाता है कि यह प्रतिरक्षा प्रणाली को मजबूत करता है और यकृत और गुर्दे जैसे अंगों की कार्यप्रणाली को बढ़ाता है । ओपल पत्थर भी भावनाओं को नियंत्रित करने और भावनात्मक उपचार करने के लिए प्रसिद्ध है

। ऐसा कहा जाता है कि इसका दिमाग पर शांत प्रभाव पड़ता जो व्यक्तियों को भावनात्मक अशांति, चिंता और तनाव से उबरने में मदद करता है । यह प्राकृतिक रत्न आंखों के लिए भी बहुत अच्छा है ।

यह दृष्टि को बढ़ाता है और आंखों को तनाव से राहत भी देता है । यह भी माना जाता है कि यह हार्मोनल संतुलन को नियंत्रित करने में सहायता करता है और प्रजनन स्वास्थ्य को बेहतर बनाता है ।

नीलम:नीलम स्टोन के फायदे और नुकसान

ओपल रत्न पहनने की विधि : ओपल रत्न किस दिन पहनना चाहिए 

ज्योतिष शास्त्र के मुताबिक, शुक्ल पक्ष के शुक्रवार को ओपल रत्न पहनना शुभ माना जाता है.
सोने या चांदी के धातु में ओपल रत्न जड़वाकर पहना जा सकता है।

ओपल रत्न को पहनने से पहले, इसे एक दिन के लिए गंगाजल, दूध, शहद, और मिश्री के घोल में डुबोकर रखना चाहिए.

अगले दिन ओपल रत्न को धूप में रखना चाहिए।

ओपल रत्न को अनामिका अंगुली में सीधे पहनना चाहिए।

ओपल रत्न को पहनने से पहले गंगाजल और गाय के कच्चे दूध से धो देना चाहिए।

ओपल रत्न को पहनने से पहले, इसे किसी सफ़ेद कपड़े पर रखकर शुक्र मंत्र (ऊँ द्रां द्रीं द्रौं स: शुक्राय) का उच्चारण करें।ओपल रत्न को पहनने के बाद, किसी ब्राह्मण को शुक्र ग्रह से जुड़ा दान चरण स्पर्श करके देना चाहिए.

वृष, तुला, कुंभ और मकर राशि के लोग ओपल रत्न धारण कर सकते हैं।

Leave a comment