नशा छुड़ाने के ज्योतिष उपाय : ज्योतिष के उपाय से कोई भी नशा छुड़ाए |

नशा छुड़ाने के ज्योतिष उपाय : नशा हे क्या ?-

नशा एक ऐसी दुर्भाग्यपूर्ण स्थिति है जिसमें व्यक्ति अपनी नियंत्रण से बाहर होता है और अपने जीवन को उसके नियंत्रण में रखने में असमर्थ होता है। नशा छुड़ाने के ज्योतिष उपाय के बारे मे भी बात करेंगे लेकिन नशा ऐसी लत हे जो जिंदगी को तबाह कर देती है और उसके घर-परिवार को बरबाद कर देती है।

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now
Please Follow On Instagram instagram

नशा अच्छे खासे इंसान की जिंदगी को बर्बाद कर देता हे | नशा कई तरह का होता हे | तंबाकू , सीगरट , शराब कई तरह के नशे होते हे | अब सवाल ये होता हे की ये नशा केसे छुड़ाना हे | इसके तरीके क्या क्या हे | क्या ये सब तरीके काफी हे नशा छुड़ाने के लिय | इस ब्लॉग मे हम ये बात करेंगे |

नशा छुड़ाने के ज्योतिष उपाय : ज्योतिष के उपाय से जाने —

सूर्य ग्रह: नशे में राहत का कारण

ज्योतिष शास्त्र के अनुसार, कुंडली में सूर्य ग्रह का स्थान भी व्यक्ति के नशे के प्रति एक महत्वपूर्ण प्रभाव डालता है। यदि सूर्य प्रभावित हो तो व्यक्ति अधिकतर मादक पदार्थों का सेवन करने की प्रवृत्ति बना लेता है। इसका कारण है सूर्य की शक्ति और गर्मी जो मानो उसे एक तरह की ऊर्जा प्रदान करती है जो उसे नशे के रूप में ढलने के लिए प्रेरित करती है।

चंद्र ग्रह: शराब के लिए जिम्मेदार

ज्योतिष शास्त्र में चंद्र ग्रह को नशे के लिए प्रमुख रूप से जिम्मेदार बताया गया है। कुंडली में लग्न स्थान यानी पहले भाव में चंद्र की स्थिति और छठे और ग्यारहवे भाव के स्वामी और राहु के के प्रभाव के कारण व्यक्ति शराब के नशे में डूब जाता है। इसके साथ ही यदि व्यक्ति की कुंडली में मंगल का दोष है तो वह मांसाहार के अत्यधिक सेवन का आदि हो जाता है। इस तरह के नशे का आदि व्यक्ति उग्र स्वभाव का और लड़ाई-झगड़े का आदि होता है।

मंगल ग्रह: उग्रता और नशे का सम्बन्ध

मंगल ग्रह के प्रभाव से व्यक्ति का स्वभाव उग्र होता है, जिससे वह आसानी से नशे की गिरफ्त में आ जाता है। यह ग्रह उसकी सोच को अधिक अव्यवस्थित और उत्तेजित बनाता है, जिससे वह अपने नियंत्रण में नहीं रह पाता।

राहु ग्रह: नशे का प्रवेशद्वार

किसी भी तरह के नशे के लिए कुंडली का राहु जिम्मेदार होता है। राहु के दुष्प्रभाव से इंसान का जीवन तबाह हो जाता है। राहु यदि पहले, दूसरे, सातवें और बारहवें स्‍थान पर हो तो इंसान नशे का आदि हो जाता है। राहु के प्रभाव से सबसे पहले इंसान को धूम्रपान का नशा लगता है।

नशा छुड़ाने के ज्योतिष उपाय
नशा छुड़ाने के ज्योतिष उपाय

आपको मे और भी ग्रहों के बारे मे बता सकता हु | मगर आपको करना क्या हे ये सब जानके , आप तो आए हो मेरी ज्योतिष की वेबसाईट पे ये जानने की नशा छुड़ाने के ज्योतिष उपाय  क्या क्या हे | देखिए ग्रह तो जिम्मेदार होते ही हे | और हर गंदी लत जो आप कारते हो उसका कारण चंद्र होता हे | क्युकी चंद्र मन का कारण होता हे | और मन आपका हर समय इधर उधर भटकता राहत हे |

इसलिए आपको चाहिए की आप चंद्र को मजबूत करने के लिय मोती पहन लो | मे इस बार ये नहीं कहूँगा | की आप मोती पहनो क्युकी उसके लिय आपको अपनी कुंडली देखनी पड़ेगी | तो इतना ताम – झाम  करने से अच्छा हे की आप भोले बाबा की चरण मे चले जाए |

नशा छुड़ाने के ज्योतिष उपाय

बेल का पत्ता खाने के फायदे – नशा छुड़ाने के ज्योतिष उपाय 

नशा छुड़ाने के ज्योतिष उपाय  मे सबसे आसान और सस्ता उपाय बस ये हे की आप हर सोमवार को सुबह भोले बाबा को जल अर्पित करे | स्टील के लोटे मे जल , थोड़ा गाय का दूध , शहद और एक बेल का पत्ता हो साफ सुधरा पत्ता हो | कोई कटा फटा न हो बेल पत्ता  |उसके बाद अपने घर के पास शिव मंदिर जाकर आप शिवलिंग मे उस जल को अर्पित करो | जल अर्पित करते करते भोले बाबा से अपना नशा छुड़ाने के लिय  प्राथना करे |

फिर उस शिवलिंग से होता हुआ जल को आप अपने लोटे मे ले | जल उतना ही ले जितना पी पाओ | आपको उस जल को पीना हे | और उस बेल के पते को खाना हे | बस आपको हर सोमवार को ये करना हे | अब हफ्ते मे एक बार 10 मिनट तो दे ही सकते हो भोले बाबा को | और ऐसा करने से आपका नशा तो छूटेगा ही साथ मे और कोई बीमारी आपके शरीर मे जो होगा वो भी खत्म हो जाएगा |

बस आपको बोले बाबा पे पूरा विश्वास रखना हे हर सोमवार को शिवमंदिर जाना हे , शिवलिंग पे जल अर्पित करना हे | जल को पीना हे बेल पत्ते को खाना हे | बस इतना ही यकीन करिए सबसे सस्ता उपाय हे | नशा छुड़ाने के लिय , अरे साहब दुनिया मे ऐसी कोई बीमारी नहीं हे जो हमारे भोले बाबा सही न कर सके | बस थोड़ा विश्वास रखना होगा बोले बाबा पे ,थोड़ा समय भी लगेगा |

घड़ी : ये भी पढ़े 

 

बेल का पत्ता खाने के नुकसान –

बेल का पत्ता खाने से कोई नुकसान हुआ हो ऐसा सुनने मे कम आया हे | बेल का पत्ता आपको बिना मतलब के नहीं खाना हे | आपको शिवलिंग के ऊपर से ही उठा के सिर्फ एक बेल पत्ता खाना हे , थोड़ी सावधानी के साथ , जेसे आपको बेल का पत्ता बच्चों को तो नहीं खिलाना हे , क्युकी बेल का पत्ता गले मे अटक भी सकता हे | 

ज्यादा बेल का पत्ता खाना परेशानी दे सकता हे | इसलिय आप बेल का पत्ता शिवलिंग पे छोटा ही अर्पित करे , ताकि उसे खाने पे आपको कोई  भी  परेशानी न हो और एक ही पत्ता खाए | 

Leave a comment