Gomed Stone : gomed stone benefits in hindi -

gomed stone benefits in hindi

.

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now
Please Follow On Instagram instagram

गोमेद रत्न: एक रहस्यमय और खास रत्न:

आपने यह सुना है कि ज्योतिष शास्त्र में गोमेद रत्न का खास महत्व है। यह एक प्रमुख रत्न है जो राहु ग्रह की शांति के लिए धारण किया जाता है। यह रत्न न केवल खूबसूरती को बढ़ाता है, बल्कि व्यक्ति के जीवन में सकारात्मक परिवर्तन लाता है। चलिए, जानते हैं गोमेद रत्न के बारे में और इसके फायदों के बारे में विस्तार से:

गोमेद रत्न: राहु की शांति का स्रोत

गोमेद रत्न एक अद्वितीय रत्न है जो राहु ग्रह के प्रति विशेष श्रद्धा रखने वाले लोगों के लिए बनाया गया है। ज्योतिष शास्त्र में माना जाता है कि राहु एक पापी ग्रह है जिसकी महादशा में व्यक्ति को अनेक संकटों का सामना करना पड़ता है। गोमेद रत्न को धारण करने से राहु के दुष्प्रभाव को कम किया जा सकता है, जिससे व्यक्ति का जीवन सुखमय और शांति पूर्ण हो सकता हैओपेल रत्न 

 कार्यों में बढ़ी रुकावट को दूर करना

गोमेद रत्न को धारण करने से व्यक्ति के कार्यों में बढ़ी रुकावटों को दूर किया जा सकता है। यह रत्न व्यक्ति को संतुलित और सकारात्मक मार्ग प्रदान करता है, जिससे उसकी प्रतिबद्धता में वृद्धि होती है। गोमेद रत्न के प्रभाव से व्यक्ति अपने कार्यों में सफलता प्राप्त कर सकता है और उसकी प्रेरणा में वृद्धि होती है।

 राहु की महादशा से छुटकारा

गोमेद रत्न को धारण करने से व्यक्ति अपनी राहु की महादशा से छुटकारा प्राप्त कर सकता है। राहु की महादशा व्यक्ति को अस्थिरता और आत्म-संज्ञान में कमी ला सकती है, जो उसकी जिंदगी को प्रभावित कर सकती है। गोमेद रत्न की शक्ति से व्यक्ति अपनी आत्मा को समझने में समर्थ होता है और अपने जीवन को संचालित करने में सफल होता है।

गोमेद रत्न का धारणा करने से व्यक्ति की सुंदरता में भी वृद्धि होती है। यह रत्न व्यक्ति को चमकदार और आकर्षक बनाता है, जो उसकी आत्म-सम्मान में वृद्धि करता है। गोमेद रत्न की शक्ति से व्यक्ति खुद को स्वीकार करने में सक्षम होता है और अपने आत्म-संवाद में समर्थ होता है।

इस अद्वितीय रत्न, गोमेद की महत्वपूर्ण भूमिका ज्योतिष शास्त्र में हमेशा से उच्च मानी गई है। यह न केवल हमें खूबसूरती और सुंदरता प्रदान करता है, बल्कि हमारे जीवन को संतुलित और शांतिपूर्ण बनाता है। राहु के दुष्प्रभाव को कम करने में मदद करने वाला यह रत्न हमें अपनी प्रेरणा और संतुलन की प्रतिष्ठा प्रदान करता है। इसलिए, गोमेद रत्न को अपने जीवन में शामिल करके हम अपनी जिंदगी को और भी खुशहाल बना सकते हैं।

गोमेद रत्न को किस धातु के साथ पहने 

 गोमेद रत्न को स्वर्ण या सिल्वर में पहना जा सकता है। यह रत्न पंचधातु  के साथ भी  पहन सकते  है और धारण करने वाले की खूबसूरती को और भी बढ़ाता है।

गोमेद रत्न की पहनने की विशेष मुहूर्त 

गोमेद रत्न को पहनने की विशेष मुहूर्त और विधि होती है,  इसे शुक्रवार को  घर लाकर  ,शनिवार को  शनिवार को शाम को पूजा पाठ कर के सीधे हाथ की  बीच वाली उंगली मे पहने | यह सुनिश्चित करने के लिए महत्वपूर्ण है कि आप गोमेद रत्न को सही तरीके से पहनें।

 गोमेद रत्न को किस रत्न के साथ पहने 

गोमेद रत्न को दूसरे रत्नों के साथ पहना जा सकता है। लेकिन यह सुनिश्चित करना चाहिए कि यह दूसरे रत्नों के साथ मेल खाता है  | आप गोमेद रत्न को पन्ना और नीलम के साथ पहन सकते हे  | उससे पहले आप अपनी जन्मपत्री  को  चेक  करा सकते हे |

 गोमेद रत्न का उपयोग 

  गोमेद रत्न का उपयोग विभिन्न उद्देश्यों के लिए किया जा सकता है, जैसे कि राहु के दुष्प्रभाव को कम करने, कार्यों में सफलता प्राप्त करने, और आत्म-संवाद में स्थिरता प्राप्त करने के लिए।  गोमेद को कब पहन सकते हे , कुंडली मे  राहू का  इफेक्ट को कम करने के लिय पहना जाता हे , अगर राहू कुंडली मे 6,8,12 को छोड़ के  किसी भी जगह हो तो गोमेद पहन सकते हे | 

अगर कुंडली मे राहू का कालसर्प दोष हो ,तो भी आप गोमेद पहन सकते | अगर आप स्टॉक मार्केट करते हे , और उससे लाभ उठाना चाहते हो , तो आप गोमेद पहन सकते हे |